Monday, October 24, 2011

मृत्यु गीत

रमने लगा है मन
गहन वन में
अदृश्य जंजीरों से fबंधी देह
हाथों से फिसल रही है
फिसल रही है
स्मृतियों के अंक-पाश से
क्षण / हर क्षण

मिला थोड़ा सा साथ
शब्दों का
माना अनुशासन भावों ने
मर्यादित होने लगीं भावनायें
मिटने लगा सब कुछ
कुछ बनने में
घिरने लगा घेरता दुख
कुछ रचने में
अपार जल में डूबता-उतराता
झुलस रहा है सब कुछ
कण / हर कण

दिखती हैं
तिमिर के प्रकाश में
आँसुओं की मुस्कानें
सिहराती है बंधनों में बंद
निर्बन्ध थकान
दौड़ रहा जब से छुआ वातायन
विश्रान्ति है मृत्यु तो
एक अनिवार्य अर्ध-विराम
अनवरत गान का
बहते रहते हैं भवितव्य में
जन / हर जन

1 comment:

  1. बहुत सुन्दर और गहन अभिव्यक्ति...दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete

हमारा यह प्रयास यदि सार्थक है तो हमें टिप्‍पणियों के द्वारा अवश्‍य अवगत करावें, किसी भी प्रकार के सुधार संबंधी सुझाव व आलोचनाओं का हम स्‍वागत करते हैं .....

लेखक

अशोक सिंघई (31) कविता संग्रह (31) समुद्र चॉंद और मैं (30) कहानी संग्रह (12) आदिम लोक जीवन (8) लोक कला व थियेटर (8) Habib Tanvir (7) उपन्‍यास (5) गजानन माधव मुक्तिबोध (5) छत्‍तीसगढ़ (5) नेमीचंद्र जैन (5) रमेश चंद्र महरोत्रा (5) रमेश चंद्र मेहरोत्रा (5) पदुमलाल पुन्‍नालाल बख्‍शी (4) वेरियर एल्विन (4) व्‍यंग्‍य (4) गिरीश पंकज (3) जया जादवानी (3) विनोद कुमार शुक्‍ल (3) अजीत जोगी (2) अवधि (2) अवधी (2) गुलशेर अहमद 'शानी' (2) जमुना प्रसाद कसार (2) डॉ. परदेशीराम वर्मा (2) डॉ.परदेशीराम वर्मा (2) परितोष चक्रवर्ती (2) माधवराव सप्रे (2) मेहरून्निशा परवेज़ (2) संस्‍मरण (2) W. V. Grigson (1) अनिल किशोर सिन्‍हा (1) अपर्णा आनंद (1) आशारानी व्‍होरा (1) कैलाश बनवासी (1) चंद्रकांत देवताले (1) चम्पेश्वर गोस्वामी (1) जय प्रकाश मानस (1) डॉ. भगवतीशरण मिश्र (1) डॉ.हिमाशु द्विेदी (1) दलित विमर्श (1) देवीप्रसाद वर्मा (1) नन्दिता शर्मा (1) नन्‍दकिशोर तिवारी (1) नलिनी श्रीवास्‍तव (1) नारी (1) पं. लखनलाल मिश्र (1) मदन मोहन उपाध्‍याय (1) महावीर अग्रवाल (1) महाश्‍वेता देवी (1) रमेश गजानन मुक्तिबोध (1) रमेश नैयर (1) राकेश कुमार तिवारी (1) राजनारायण मिश्र (1) ललित सुरजन (1) विनोद वर्मा (1) विश्‍व (1) शकुन्‍तला वर्मा (1) श्‍याम सुन्‍दर दुबे (1) संजीव खुदशाह (1) संतोष कुमार शुक्‍ल (1) सतीश जायसवाल (1) सुरेश ऋतुपर्ण (1) हर्ष मन्‍दर (1)

संबंधित संग्रह